Thursday, February 2, 2023
Homeदेश-विदेशमां-बेटे ने पिता के 10 टुकड़े कर फ्रिज में रखा फिर लगाया...

मां-बेटे ने पिता के 10 टुकड़े कर फ्रिज में रखा फिर लगाया ठिकाने, गिरफ्तार

जी, हां आप ने सही पढ़ा दिल्ली में एक बार फिर श्रद्धा हत्याकांड की तरह एक और मामला सामने आया है। पुलिस के अनुसार ईस्ट दिल्ली में मिल रहे इंसानी टुकड़े के गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने बताया की जिस इंसान के टुकडे मिल रहे थे उस का नाम अंजन दास है। उसकी हत्या कर शव के टुकड़ों को फ्रीज में रखा गया था।

अवैध संबंध में हुई हत्या

अंजन दास की हत्या कर शव के टुकड़े-टुकड़े कर घर रखे गए फ्रीज में रखा गया था। इसके बाद रोजाना शव के टुकड़ों को पाडंव नगर और ईस्ट दिल्ली के अलग-अलग इलाको में फेंक दिया जाता था। पुलिस हत्या की वजह अवैध संबंध को बता रही है।

क्राइमब्रांच के डीसीपी ने बताया कि 5 जून को एक शख्स के शरीर के कुछ टुकड़े राम लीला मैदान में बरामद किए गए थे। इसके तीन दिन बाद दो पैर, दो जांघ, एक खोपड़ी और एक बांह बरामद की गई और फिर मामला दर्ज किया गया।

पूनम का तीसरा पति था अंजन दास

पूनम ने पहले पति कल्लू के 2016 में गुजर जाने के बाद 2017 में अंजन दास से दूसरी शादी की थी। कल्लू दीपक के पिता थे। मृतक अंजन की शादी भी बिहार में हुई थी और वहां उसके 8 बच्चे भी थे। वह कमाता नहीं था और अक्सर लड़ाई करता था।

जिससे तंग आकर मां-बेटे ने 30 मई को मृतक अंजन को शराब पिलाई और उसमें नींद की गोलियां मिला दी। फिर उन्होंने उसका गला काट दिया और शरीर को एक दिन के लिए घर में छोड़ दिया ताकि खून पूरी तरह से निकल जाए. फिर शव के 10 टुकड़े किए और फ्रीज में रख दिया। इनमें से 6 टुकड़े बरामद किए जा चुके हैं।

लिफ्ट ऑपरेटर था अंजन दास

बताया जाता है की अंजन दास लिफ्ट ऑपरेटर था जो पूनम और उसके बेटे दीपक के साथ रहता था। दीपक अंजन दास का असली पुत्र नहीं था। पूनम का सुखदेव से विवाह हुआ, जो दिल्ली आ गया। जब पूनम सुखदेव को ढूंढने दिल्ली आई तो उसे कल्लू मिला जिससे पूनम को 3 बच्चे हुए। 3 बच्चों में से दीपक एक है।

कल्लू की लीवर फेल होने से मौत होने के बाद पूनम अंजन के साथ रहने लगी। पूनम को नहीं पता था कि अंजन का बिहार में परिवार है,  उसके 8 बच्चे हैं। दीपक की पत्नी पर अंजन की बुरी नजर थी। इसी के चलते इन्होंने अंजन की हत्या की योजना बनाई।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

you're currently offline