Tuesday, February 27, 2024
Homeदेश-विदेशफरवरी के अंत में शुरु होगा 12 से 14 वर्ष के बच्‍चों...

फरवरी के अंत में शुरु होगा 12 से 14 वर्ष के बच्‍चों का टीकाकरण!

देश में जोर शोर से वैक्सीनेशन अभियान चल रहा है। CoWIN पोर्टल के मुताबिक 15-17 आयु वर्ग में  3,45,35,664 वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। इस आयु वर्ग के करीब साढ़े 7 करोड़ बच्चे हैं। जिस रफ्तार से 15 से 17 साल के आयु वर्ग के बच्चों में टीकाकरण हो रहा है उससे उम्मीद की जा रही है कि फरवरी के अंत तक उस आयु वर्ग का टीकाकरण हो जाएगा। जिसके बाद 12 से 14 आयु वर्ग में टीकाकरण शुरू कर सकते है।

भारत मे 12 से 18 साल के बच्चों को कोरोना की वैक्सीन देने की ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने मंजूरी दे दी है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन 12 से 18 साल के आयु वर्ग में दी जा सकती है। अभी 15 से 17 ऐज ग्रुप में यही वैक्सीन दी जा रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय और NTAGI के सूत्रों के मुताबिक मार्च तक 15 से 17 आयु वर्ग का टीकाकरण होने के बाद इन बच्चों का वैक्सीनेशन भी शुरू किया जा सकता है और इसके लिए वैक्सीन उपलब्ध कराई जा रही है। वहीं इसको लेकर नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (NTAGI) बैठक में फैसला करेगी।

इसे भी पढ़े−ओम‍िक्रोन ने ली 24 घंटे में 380 की जान, मल्लिकार्जुन खड़गे व़ असम के राज्यपाल संक्रम‍ित

इसी वर्ष के प्रारंभ में शुरू हुआ है 15 से अधिक आयु के बच्चों का टीकाकरण

गौरतलब है कि इसी वर्ष के प्रारंभ से आज से बच्चों का वैक्सीनेशन (Children Vaccination) शुरू हो गया है। देश में 15-18 आयु वर्ग के 8 करोड़ बच्चे हैं, जबकि करीब साढ़े 6 करोड़ स्कूली बच्चे हैं। CoWIN App पर अबतक 15 से 18 साल के 8 लाख बच्चों का रजिस्ट्रेशन हुआ है। मतलब अभी रजिस्ट्रेशन करीब 1 फीसदी लोगों का ही हुआ है। 9वीं और 10वीं में 3.85 करोड़ बच्चे हैं। 11वीं और 12वीं में 2.6 करोड़ बच्चे हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए नए दिशानिर्देशों के अनुसार, 15-18 आयु वर्ग के लोगों को केवल कोवैक्सीन ही दी जाएगी। कोवैक्सीन की दूसरी डोज 28 दिन बाद दी जानी है। देश की वयस्क आबादी को कोवैक्सीन के अलावा कोविशील्ड और स्पुतनिक V टीके दिए जा रहे हैं।

बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए दिल्ली में 159 सेंटर चिन्हित किए गए। दिल्ली सरकार के दिल्ली स्टेट हेल्थ मिशन ने लिस्ट जारी की है। ज्यादातर वैक्सीनेशन सेंटर वही हैं, जहां पहले से ही को-वैक्सीन के डोज लगाए जा रहे थे। सबसे ज्यादा 21 वैक्सीनेशन सेंटर्स साउथ वेस्ट जिले में हैं। स्कूलों में बनाए गए वैक्सीनेशन सेंटर के लिए खास प्रोटोकॉल तैयार किए गए हैं।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments