Tuesday, November 29, 2022
Home Blog

मां-बेटे ने पिता के 10 टुकड़े कर फ्रिज में रखा फिर लगाया ठिकाने, गिरफ्तार

जी, हां आप ने सही पढ़ा दिल्ली में एक बार फिर श्रद्धा हत्याकांड की तरह एक और मामला सामने आया है। पुलिस के अनुसार ईस्ट दिल्ली में मिल रहे इंसानी टुकड़े के गुत्थी को पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने बताया की जिस इंसान के टुकडे मिल रहे थे उस का नाम अंजन दास है। उसकी हत्या कर शव के टुकड़ों को फ्रीज में रखा गया था।

अवैध संबंध में हुई हत्या

अंजन दास की हत्या कर शव के टुकड़े-टुकड़े कर घर रखे गए फ्रीज में रखा गया था। इसके बाद रोजाना शव के टुकड़ों को पाडंव नगर और ईस्ट दिल्ली के अलग-अलग इलाको में फेंक दिया जाता था। पुलिस हत्या की वजह अवैध संबंध को बता रही है।

क्राइमब्रांच के डीसीपी ने बताया कि 5 जून को एक शख्स के शरीर के कुछ टुकड़े राम लीला मैदान में बरामद किए गए थे। इसके तीन दिन बाद दो पैर, दो जांघ, एक खोपड़ी और एक बांह बरामद की गई और फिर मामला दर्ज किया गया।

पूनम का तीसरा पति था अंजन दास

पूनम ने पहले पति कल्लू के 2016 में गुजर जाने के बाद 2017 में अंजन दास से दूसरी शादी की थी। कल्लू दीपक के पिता थे। मृतक अंजन की शादी भी बिहार में हुई थी और वहां उसके 8 बच्चे भी थे। वह कमाता नहीं था और अक्सर लड़ाई करता था।

जिससे तंग आकर मां-बेटे ने 30 मई को मृतक अंजन को शराब पिलाई और उसमें नींद की गोलियां मिला दी। फिर उन्होंने उसका गला काट दिया और शरीर को एक दिन के लिए घर में छोड़ दिया ताकि खून पूरी तरह से निकल जाए. फिर शव के 10 टुकड़े किए और फ्रीज में रख दिया। इनमें से 6 टुकड़े बरामद किए जा चुके हैं।

लिफ्ट ऑपरेटर था अंजन दास

बताया जाता है की अंजन दास लिफ्ट ऑपरेटर था जो पूनम और उसके बेटे दीपक के साथ रहता था। दीपक अंजन दास का असली पुत्र नहीं था। पूनम का सुखदेव से विवाह हुआ, जो दिल्ली आ गया। जब पूनम सुखदेव को ढूंढने दिल्ली आई तो उसे कल्लू मिला जिससे पूनम को 3 बच्चे हुए। 3 बच्चों में से दीपक एक है।

कल्लू की लीवर फेल होने से मौत होने के बाद पूनम अंजन के साथ रहने लगी। पूनम को नहीं पता था कि अंजन का बिहार में परिवार है,  उसके 8 बच्चे हैं। दीपक की पत्नी पर अंजन की बुरी नजर थी। इसी के चलते इन्होंने अंजन की हत्या की योजना बनाई।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

सूर्य कुमार यादव की पारी के दम पर भारत ने 65 रन से जीता दूसरा टी20

जी, हां आप ने सही पढ़ा सूर्य कुमार यादव की दमदार पारी के दम पर भारत ने 65 रन दूसरा टी20 मैच जीत ल‍िया है। बता दें की इससे पहले पहला मैच बा‍र‍िश की भेंट चढ़ गया था।

भारत के गेंदबाजों ने भी दमदार प्रदर्शन किया जिसकी बदौलत भारतीय टीम ने जीत हासिल की है। टी20 सीरीज में भारत ने 1-0 से बढ़त बना ली है।

भारत के 191 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड की टीम अपने ही घर में भारतीय गेंदबाजों के सामने नहीं टिक सकी। पहले ही ओवर में न्यूजीलैंड ने खराब शुरुआत की। पहला विकेट फिन एलेन का पहले ही ओवर में गिरा।

भुवनेश्वर कुमार ने भारत को ये सफलता दिलाई। इसके बाद न्यूजीलैंड की टीम काफी धीमी गति से रन बनाती दिखी। भारतीय टीम के गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को खुलकर बल्लेबाजी करने का मौका नहीं दिया।

न्यूजीलैंड की पारी को संभालते हुए केन विलियमसन ने काफी धीमी गति से अर्धशतक जड़ा। केन विलियमसन ने 52 गेंदों में 61 रन की पारी खेली, जिसमें चार चौके और दो छक्के शामिल थे। अंतिम चार ओवरों में न्यूजीलैंड की टीम को चार विकेट हाथ में रहते हुए 90 रनों की दरकार थी।

इस मैच में भारतीय गेंदबाजों ने दमदार प्रदर्शन किया है। भारतीय टीम के गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को खुलकर बल्लेबाजी करने का मौका नहीं दिया। दीपक हुड्डा ने चार, युजवेंद्र चहल और मोहम्मद सिराज ने दो दो विकेट हासिल किए। भारतीय गेंदबाज लगातार न्यूजीलैंड के विकेट चटकाते गए जिससे न्यूजीलैंड की टीम को मैच पर पकड़ बनाने का मौका ही नहीं मिला।

ऐसा रहा भारतीय गेंदबाजों का प्रदर्शन

मैच में गेंदबाजों में सबसे दमदार प्रदर्शन दीपक हुड्डा ने किया है। दीपक हुड्डा का रहा जिन्होंने 2.5 ओवर में मात्र 10 रन देकर न्यूजीलैंड की टीम के 4 विकेट चटकाए। गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने 3 ओवर में 12 रन देकर 1 विकेट झटका।

अर्शदीप सिंह ने तीन ओवर में 29 रन दिए, मगर उनके खाते में कोई विकेट नहीं आया। मोहम्मद सिराज ने चार ओवर में 24 रन देकर दो विकेट चटकाए। उनके अलावा वाशिंगटन सुंदर ने 2 ओवर फेंककर 24 रन दिए। उनकी झोली में भी 1 विकेट आया। वहीं लंबे समय बाद वापसी कर रहे युजवेंद्र चहल ने 4 ओवर में 26 रन देकर 2 विकेट हासिल किए।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

अध‍िकारी ब‍िजली चोरी पर हर हाल में लगाए रोक : कमिश्नर दीपक रावत

हल्‍द्वानी, सिटी न्‍यूज अलर्ट। कमिश्नर दीपक रावत ने आज हल्द्वानी में यूपीसीएल और पिटकुल के अधिकारियों की बैठक ली, बैठक में राजस्व और बिजली चोरी को लेकर कमिश्नर ने अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए उन्‍होंने कहा की हर हाल में बिजली चोरी पर अफसर अंकुश लगाए।

कमिश्नर श्री रावत ने कहा की पूरे कुमाऊं के अंदर करीब 933 करोड़ का राजस्व प्राप्त किया जाना है जिसमें से 753 करोड़ के राजस्व की वसूली कर ली गई है यानी 80 फ़ीसदी राजस्व प्राप्त किया जा चुका है, इसके अलावा कुमाऊं कमिश्नर बिजली चोरी की घटनाओं को लेकर सख्त दिखे,उन्होंने अधिकारियों से कहा कि बिजली चोरी को लेकर विजिलेंस की टीम एक्टिव होकर छापे मारी करें विजिलेंस टीम को हर तरीके से सुरक्षा प्रदान की जाएगी, कमिश्नर ने विद्युत विभाग के सिविल कार्यों की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि आने वाले 10 व 12 सालों में बिजली की आपूर्ति को देखते हुए जो नए बिजलीघर बनाए जाने हैं उनके कार्यों में अधिकारी तेजी लाएं।

जिले में डाली जाएंगी आर्म्ड केबल और लगेंगे अतिरिक्त ट्रांसफार्मर

बैठक में मण्डलायुक्त ने मुख्य अभियन्ता से आरडीएसएस योजना की जानकारी भी ली। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत जिले में  आर्म्ड केबल डाली जायेगी और अतिरिक्त ट्रांसफार्मर, लगेंगे । इसके साथ ही बिजली चोरी करने वालो का भी पता चलेगा जिससे विभाग के राजस्व में वृद्धि होगी तथा उपभोक्ताओं को अघोषित बिजली कटौती की मार नहीं झेलनी होगी।

जल्द ही जिलेभर में जर्जर बिजली के तार बदले जाएंगे। ओवरलोड वाले क्षेत्रों में अतिरिक्त ट्रांसफार्मर लगाए जाएंगे और स्मार्ट मीटर भी लगाए जाएंगे। इसके अलावा 33 केवी व 11 केवी का फीडर ओवर लोड खत्म करने के लिए अलग लाइन डालकर क्षेत्र को सप्लाई दी जाएगी।        बैठक में मुख्य अभियंता पिटकुल राजीव गुप्ता ने बताया कि आर ई सी योजना के तहत रुद्रपुर के कुरिया में 33/11 केवी सब स्टेशन व 33 के वी लाइन का कार्य मैसर्स रॉयल इंफ्रास्ट्रक्चर द्वारा किया जाना था किन्तु दिसम्बर 2021 में ठेकेदार द्वारा कार्य समाप्त कर दिया गया जिसकी सूचना विभाग को दे दी गई थी।

बैठक में मुख्य अभियंता ने बताया कि बिजली चोरी के सम्बन्ध में 15 वाद में एफ आई आर दर्ज की गई थी जिसका रुपये 08 लाख का आंकलन किया गया था जिसके सापेक्ष विभाग ने 04 लाख 19 हजार की वसूली भी कर ली है। उन्होंने बताया कि 12 प्रतिशत वितरण हानि आर्दश होती है कुमाऊँ में इस वर्ष 14 प्रतिशत है जबकि विगत वर्ष 16 प्रतिशत थी। रामनगर में 19 प्रतिशत, हल्द्वानी शहर में 21 प्रतिशत,बाजपुर में 19 प्रतिशत, भिकियासैंण में 20 प्रतिशत है जिसे वित्तीय वर्ष की समाप्ति तक कम कर दिया जाएगा।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

T20 World Cup 2022: जाने क्यों रद्द हो सकता है भारत-पाकिस्तान मैच

क्रिकेट प्रेमी T20 World Cup 2022 में भारत और पाकिस्तान के मैच का बेसब्री से इंतजार कर है तो वहीं एक एैसी खबर आ रही है जो की फैंस का दिल तोड सकती है। क्यों की उस दिन मेलबर्न में बारिश होने की संभावना है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि बारिश की वजह से वर्ल्ड वॉर ऑफ क्रिकेट का मैच खराब हो सकता है।

IND vs PAK मैच से पहले बुरी खबर

वेदर फोरकास्ट एजेंसी के मुताबिक 20 अक्टूबर से ऑस्ट्रेलिया के 3 राज्यों में बारिश होगी। इस बार भी मौसम सर्द रहेगा। मेलबर्न में भी मौसम ऐसा ही रहने की संभावना है। मौसम की जानकारी देने वाली वेबसाइट AccuWeather के मुताबिक 23 अक्टूबर की सुबह मेलबर्न में बारिश की संभावना है।

इसके बाद पूरे दिन आसमान में बादल छाए रहने की संभावना है। इसी तरह 22 अक्टूबर को होने वाले मैच से एक दिन पहले बादल छाए रहेंगे। दोपहर में भारी बारिश की संभावना है। इतना ही नहीं पूरा दिन बारिश से भरा रह सकता है। वर्ल्ड कप से पहले आईसीसी ने सभी कप्तानों की प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में कप्तान रोहित शर्मा ने कई जवाब दिए। साथ ही रोहित ने इस बात के संकेत दिए हैं कि टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन पाकिस्तान के खिलाफ कैसी होगी। रोहित ने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ 23 अक्टूबर को होने वाले मैच के लिए टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन तय हो गई है। मैंने उन खिलाड़ियों को बता दिया है जो खेलने जा रहे हैं।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

ये रिश्ता क्या कहलाता है फेम Vaishali Takkar ने फांसी लगा की आत्महत्या

ये रिश्ता क्या कहलाता है की मशहूर अदाकारी वैशाली ठक्कर (Vaishali Takkar) ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। अभिनेत्री पिछले एक साल से इंदौर में रह रही थीं, जहाँ उनके घर पर उनकी लाश मिली है।

आत्महत्या की सूचना मिलने के बाद पुलिस वैशाली के घर पहुंची पुलिस को मौके पर सुसाइड नोट भी मिला है। जिसके बाद उन्होंने प्रेम प्रसंग के चलते खुदकुशी के एंगल से जाँच शुरू कर दी है। अभिनेत्री की आत्महत्या की खबर ने टीवी इंडस्ट्री के साथ उनके फैंस को झखझोर कर रख दिया है।

जल्द शादी करने वाली थीं अभिनेत्री

Vaishali Takkar की सगाई हो चुकी थीं और जल्द ही शादी करने वाली थीं। मीडिया खबरों के अनुसार, अभिनेत्री ने कुछ साल पहले डेंटल सर्जन अभिनंदन सिंह हुंडल से सगाई की थी। दोनों शादी करने वाले थे, लेकिन कोरोना की वजह से शादी पोस्टपोन हो गई। बता दें, वैशाली शादी के बाद एक्टिंग छोड़ने वाली थीं।

‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ से मिली थी पॉपुलैरिटी

वैशाली ठक्कर (Vaishali Takkar) ने स्टार प्लस के शो ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की थीं। इस शो में उन्होंने संजना की भूमिका निभाई थी और घर-घर पहचान बनाने में कामयाब हुई थी। इसके बाद अभिनेत्री ने ये वादा रहा, ये है आशिकी, ससुराल सिमर का, सुपर सिस्टर, लाल इश्क और सुपर सिस्टर्स जैसे कई टीवी सीरियल के काम किया। आखिरी बार वैशाली साल 2020 में मनमोहिनी 2 में नजर आई थीं।

हाल में भी एक वीडियों पोस्ट किया था सोशल मीडिया पर

अभी हाल ही में उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में वो ‘दिल जिगर नजर क्या है मैं तो तेरे लिए जान भी दे दूं’ गाने को गुनगुनाती हुई नजर आई थीं। इस वीडियो में वो मुस्कुरा रही थीं और खुश नजर भी आ रही थीं। बता दें कि एक्ट्रेस अक्सर अपनी तस्वीरें और वीडियो शेयर किया करती थीं।अब अचानक उनकी डेड बॉडी मिलने से अब सभी हैरत में हैं।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

karva chauth पर इस बार बन रहा है अद्भुत संयोग, जाने चॉद के निकलने का समय

जी, हां इस बार karva chauth के दिन बहुत ही बन रहा है। करवा चौथ पर जहां एक तरफ चंद्रमा अपनी उच्च राशि वृष में रहेंगे, वहीं इस बार शाम चंद्रमा की पूजा के समय रोहिणी नक्षत्र होगा, यह नक्षत्र सुहागिन महिलाओं के लिए खास होता हैं।

इसी दिन सिद्धि योग भी बन रहा है, यह पूजा के लिए अत्यंत शुभ योग बना है। करवा चौथ की कथा और पूजा का समय शाम 6 बजकर 01 मिनट से 07 बजकर 15 मिनट तक रहेगा।

चंद्रमा के निकलने का टाइम

  • 13 अक्टूबर की रात 1 बजकर 59 मिनट पर।
  • यह 14 अक्टूबर को रात 3 बजकर 08 मिनट तक रहेगी।
  • पूजा का मुहूर्त:– शाम 6 बजकर 17 मिनट से 7 बजकर 31 मिनट तक
  • अवधि 1 घंटा 13 मिनट
  • करवा चौथ का व्रत सुबह 6 बजकर 32 मिनट से रात 8 बजकर 48 मिनट तक
  • करवा चौथ को चंद्रोदय :- रात 8 बजकर 48 मिनट पर

karva chauth की कहानी

एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। सेठानी के सहित उसकी बहुओं और बेटी ने karva chauth का व्रत रखा था। रात्रि को साहूकार के लड़के भोजन करने लगे तो उन्होंने अपनी बहन से भोजन के लिए कहा। इस पर बहन ने बताया कि उसका आज उसका व्रत है और वह खाना चंद्रमा को अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है।

सबसे छोटे भाई को अपनी बहन की हालत देखी नहीं जाती और वह दूर पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। जो ऐसा प्रतीत होता है जैसे चतुर्थी का चांद हो। बहन ने अपनी भाभी से भी कहा कि चंद्रमा निकल आया है व्रत खोल लें, लेकिन भाभियों ने उसकी बात नहीं मानी और व्रत नहीं खोला।

बहन भाईयों की चतुराई समझ नही पाई

बहन को अपने भाईयों की चतुराई समझ में नहीं आई और उसे देख कर करवा उसे अर्घ्‍य देकर खाने का निवाला खा लिया। जैसे ही वह पहला टुकड़ा मुंह में डालती है उसे छींक आ जाती है। दूसरा टुकड़ा डालती है तो उसमें बाल निकल आता है और तीसरा टुकड़ा मुंह में डालती है तभी उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिलता है। वह बेहद दुखी हो जाती है।

उसकी भाभी सच्चाई बताती है कि उसके साथ ऐसा क्यों हुआ। व्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं। इस पर करवा निश्चय करती है कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं करेगी और अपने सतीत्व से उन्हें पुनर्जीवन दिलाकर रहेगी।

शोकातुर होकर वह अपने पति के शव को लेकर एक वर्ष तक बैठी रही और उसके ऊपर उगने वाली घास को इकट्ठा करती रही। उसने पूरे साल की चतुर्थी को व्रत किया और अगले साल कार्तिक कृष्ण चतुर्थी फिर से आने पर उसने पूरे विधि-विधान से करवा चौथ व्रत किया, जिसके फलस्वरूप करवा माता और गणेश जी के आशीर्वाद से उसका पति पुनः जीवित हो गया।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

नवरात्रि के दूसरे दिन ऐसे करें Maa Brahmacharini की पूजा, जाने शुभ मुहूर्त

शारदीय नवरात्रि के दूसरे दिन यानी कि अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि पर मां दुर्गा का दूसरे स्वरूप Maa Brahmacharini की पूजा की जाती है। देवी ब्रह्मचारिणी तप, संयम और त्याग का प्रतीक हैं। आइए जानते हैं मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि, मंत्र, शुभ योग और कथा।

Maa Brahmacharini पूजा 2022 मुहूर्त

  • अश्विन शुक्ल द्वितीया तिथि शुरू – 27 सितंबर 2022, सुबह 03.08
  • अश्विन शुक्ल द्वितीया तिथि समाप्त – 28 सितंबर 2022, सुबर 02.28
  • ब्रह्म मुहूर्त – सबुह 04:42 – सुबह 05:29
  • अभिजित मुहूर्त – सुबह 11:54 – दोपहर 12:42 पी एम
  • गोधूलि मुहूर्त- शाम 06:06 – शाम 06:30

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि 

  1. मां ब्रह्मचारिणी की पूजा में लाल रंग का ज्यादातर उपयोग करें। स्नान के बाद लाल वस्त्र पहने।
  2. जहां कलश स्थापना की है या फिर पूजा स्थल पर मां दुर्गा की प्रतिमा के सामने घी का दीपक जलाएं और मां ब्रह्मचारिणी का ध्यान करते हुए उन्हें रोली, अक्षत, हल्दी अर्पित करें।
  3. देवी को पूजा में लाल रंग के फूल चढ़ाएं। माता की चीनी और पंचामतृ का भोग लगाएं। फल में सेब जरूर रखें। अगरबत्ती लगाएं और देवी के बीज मंत्र का 108 बार जाप करें
  4. नवरात्रि में प्रतिदिन दुर्गा सप्तशती का पाठ करने बहुत शुभ माना गया है। अंत में देवी ब्रह्मचारिणी की कपूर से आरती करें।

मां ब्रह्मचारिणी कथा

पौराणिक कथा के अनुसार Maa Brahmacharini ने शिव को पति के रूप में पाने के लिए एक हजार साल तक तक फल-फूल खाएं और सौ वर्षों तक जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया। ठंड,गर्मी, बरसात हर ऋतु को सहन किया लेकिन देवी अपने तप पर अडिग रही। टूटे हुए बिल्व पत्र का सेवन कर शिव की भक्ति में डूबी रहीं। जब उनकी कठिन तपस्या से भी भोले नाथ प्रसन्न नहीं हुए, तो उन्होंने सूखे बिल्व पत्र खाना भी छोड़ दिए।

महादेव को पाने के लिए कई हजार सालों तक निर्जल और निराहार रह कर तपस्या करती रहीं। मां की कठिन तपस्या देखकर सभी देवता, मुनियों ने उनकी मनोकामना पूर्ण होने का आशीर्वाद दिया। इस कथा का सार ये है कि अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए कठिन समय में भी मन विचलित नहीं होना चाहिए तभी सफलता मिलती है।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

जाने कैसे पड़ा मॉं दुर्गा के पहले रूप का नाम, कैसे करें मॉं Shailputri की पूजा?

नवरात्रि का पहले दिन माँ शैलपुत्री की पूजा होती है, नौ दुर्गाओं में Maa Shailputri का पहला स्वरूप है, शैलराज हिमालय के यहाँ पुत्री के रूप में उत्पन्न होने का कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा, ये पार्वती और हेमवती के नाम से भी जानी जाती है, माँ शैलपुत्री के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बायें हाथ में कमल का पुष्प सुशोभित है।

माँ शैलपुत्री की पूजा विधि

Maa Shailputri पूजा में सभी नवग्रहों, दिक्पालों, तीर्थों, नदियों,  नगर देवता, दिशाओं, सहित सभी योगिनियों को भी आमंत्रित किया जाता है और कलश में उन्हें विराजने हेतु प्रार्थना सहित उनका आहवान किया जाता है। दुर्गा को मातृ शक्ति का स्वरूप मानकर पूजते हैं। अत: प्रथम पूजन के दिन “शैलपुत्री” के रूप में  माँ भगवती दुर्गा दुर्गतिनाशिनी की पूजा फूल, अक्षत, रोली, चंदन से होती हैं।

Maa Shailputri का मंत्र

“जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी, दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा, स्वधा नामोस्तुते”

इस  मंत्र को जाप कर  कलश स्थापना के पश्चात माँ  का आह्वान किया जाता है कि हे दुर्गा मां हमने आपका स्वरूप जैसा सुना है उसी रूप में आपकी प्रतिमा बनवायी है और आप उसमें प्रवेश कर हमारी पूजा अर्चना को स्वीकार करें।

Maa Shailputri की कहानी

एक बार प्रजापति दक्ष ने एक बहुत ही भव्य यज्ञ का आयोजन किया इस  यज्ञ में उन्होंने सारे देवताओं को आमंत्रित किया और यज्ञ भाग प्राप्त करने के लिए निमंत्रित किया, लेकिन शंकर जी को उन्होंने इस यज्ञ में आमंत्रित नहीं किया। सती को जब यह पता चला कि उनके पिता एक भव्य और विशाल यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे हैं तो वह वहां जाने के लिए आतुर हो उठी और अपनी यह इच्छा उन्होंने शंकर जी को बताई।

शंकर जी और सती के बीच काफी लंबी बात हुई और सारी बातों पर विचार करने के बाद शंकर जी ने कहा के प्रजापति दक्ष किसी कारण-वश हम से रुष्ट हैं। अपने यज्ञ में उन्होंने सारे देवताओं को आमंत्रित किया है और उन्हें अपना अपना यज्ञ भाग भी समर्पित किया है लेकिन हमें जानबूझकर नहीं बुलाया और कोई सूचना तक नहीं भेजी है। ऐसी स्थिति में आपका वहां जाना किसी प्रकार भी सही नहीं होगा, शंकर जी की बातों से सती को कोई बोध नहीं हुआ और अपने पिता का यज्ञ देखने वहां जाकर अपनी मां और बहनों से मिलने कि उनकी व्यग्रता किसी भी तरह से कम ना हो सकी।

उनका प्रबल आग्रह देखकर शंकर जी ने उन्हें वहां जाने की अनुमति दे दी। सती अपने पिता के घर जब पहुंची तो  देखा कि कोई भी उनसे प्रेम और आदर के साथ बात नहीं कर रहा है। सारे ही लोग मुंह फेर हुए हैं सिर्फ उनकी मां ने उन्हें स्नेह से गले लगाया और बहनों की बातों में उपहास और व्यंग्य के भाव भरे हुए थे। परिजनों के इस व्यवहार से उनके मन को बहुत धक्का लगा और वहां उन्होंने यह भी देखा की चतुर्दिक भगवान उनके पति शंकर जी के प्रति तिरस्कार के भाव भरा हुआ है और उनके पिता दक्ष ने भी शंकर जी के प्रति अपमान जनक वचन कहे।

शंकर जी का अपमान सहन ना कर सकी माता सती

यह सब देख कर सती का हृदय को बहुत ग्लानि हुई और सती क्रोध से संतप्त हो उठी, उन्होंने मन ही मन सोचा के शंकर जी की बात न मानकर बहुत बड़ी गलती की है, वह अपने पति भगवान शंकर जी के अपमान को सह ना सकी और उन्होंने अपने उस रूप को उसी क्षण वही योगाग्नि द्वारा जलाकर भस्म कर दिया, वज्रपात जैसे इस दुख को सुनकर भगवान शंकर क्रोधित हो उठे और उन्होंने अपने गणो को भेजकर दक्ष के यज्ञ को संपूर्ण रूप से विध्वंस करा दिया।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

भूकंप के झटकों से हिला यह देश, चलते ट्रेन के डिब्बें पलटे, घर तबाह

जी, हां आज फिर से ताइवान में भूकंप के झटके महूसस किए गए, ये दूसरी बार है जब पिछले 24 घंटों के अंदर दूसरी बार यहां पर भूकंप आया है। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 7.2 बताई गई है और इसने यूजिंग जिले को प्रभावित किया है।

इससे पहले शनिवार को भी यहां भूकंप का जोरदार झटका महसूस किया गया। यह भूकंप 6.9 की तीव्रता से दक्षिणी पूर्वी ताइवान में आया था। इसके चलते यहां पर एक बिल्डिंग गिर गई थी और सड़कें फट गई थीं। बताया जाता है कि भूकंप के चलते यहां पर कई घरों को नुकसान हुआ है।

चलते ट्रेन के कुछ डिब्बें भी पटल गए

इसके अलावा भूकंप के चलते ट्रेन के कुछ डिब्बों के भी पलट जाने की घटना सामने आई है। जानकारी के मुताबिक पिछले दो दिन से यहां पर लगातार भूकंप के झटके आ रहे हैं। बता दें कि 7.2 तीव्रता का यह भूकंप युजिंग से 85 किमी पूर्व में दोपहर करीब 12:14 बजे आया।

वहीं शनिवार शाम दक्षिणपूर्वी ताइवान में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक भूकंप की तीव्रता रिक्‍टर स्‍केल पर 6.4 दर्ज की गई थी। भूकंप से किसी जान-माल के नुकसान अब तक खबर नहीं है। हालांकि यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने भूकंप की तीव्रता 6.6 बताई है। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने कहा कि भूकंप का केंद्र 10 किलोमीटर (6.2 मील) की गहराई में ताइतुंग काउंटी में गुआनशान टाउनशिप के पास था।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

MMS वायरल कांड पर पुलिस ने की सख्त कार्रवाई, आरोपी को किया गिरफ्तार

जी, हां आपने सही पढा चंडीगढ़ विश्वविद्यालय की छात्राओं के कथित आपत्तिजनक वीडियो वायरल (MMS वायरल) होने के बाद काफी हंगामा हो रहा है। इस बीच पंजाब पुलिस ने आरोपी छात्रा को गिरफ्तार कर लिया है।

वीडियो वायरल (MMS वायरल) होने के बाद शनिवार की रात मोहाली में चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं के द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया। आरोप है कि एक छात्रा ने हॉस्टल में नहाते हुए लड़कियों के वीडियो बनाए। बाद में इस वीडियो को सोशल मीडिया में वायरल कर दिया।

पुलिस ने आत्महत्या के दावे को किया खारिज

प्रदर्शनकारियों ने यह भी दावा किया कि वीडियो वायरल (MMS वायरल) होने के बाद हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं ने आत्महत्या के प्रयास किए। हालांकि, पुलिस ने आत्महत्या के प्रयास के दावे का खंडन किया। इस मामले में पुलिस ने एक छात्र को गिरफ्तार किया है।

मोहाली के एसएसपी विवेक सोनी ने कहा, “यह एक छात्रा द्वारा शूट किए गए और वायरल किए गए वीडियो का मामला है। प्राथमिकी दर्ज की गई है और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इस घटना से संबंधित किसी मौत की सूचना नहीं मिली है। मेडिकल रिकॉर्ड के अनुसार, कोई आत्महत्या का प्रयास नहीं किया गया है। एम्बुलेंस में ले जाई गई एक छात्रा चिंतित थी। हमारी टीम उसके संपर्क में है।”

उन्होंने आगे कहा, “फोरेंसिक साक्ष्य एकत्र किए जा रहे हैं। अब तक हमारी जांच में पता चला है कि आरोपी का केवल एक ही वीडियो (MMS वायरल) है।

उसने किसी और का कोई वीडियो रिकॉर्ड नहीं किया है। इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और मोबाइल फोन को हिरासत में ले लिया गया है। उन्हें फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा। एक छात्र के वीडियो के अलावा और कोई वीडियो हमारे संज्ञान में नहीं आया है।”

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

you're currently offline