Friday, July 1, 2022
Home Blog

बिना टिकट भी अब कर सकते हैं ट्रेन से सफर, रेलवे ने बनाया खास नियम

अब अगर आपको कभी अचानक यात्रा करना पड़ जाए और आपके पास टिकट नहीं है तब भी आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। दरअसल, आप बिना रिजर्वेशन भी यात्रा कर सकते हैं। पहले ऐसी स्थिति में बस तत्काल टिकट का ही विकल्प था। लेकिन उसमें भी टिकट मिल जाए, ये जरूरी नहीं है। ऐसे में आज आपको रेलवे का एक खास नियम बताते हैं, जिससे आप बिना रेल टिकट भी यात्रा कर सकते हैं।

प्लेटफॉर्म टिकट पर यात्रा

रेलवे के नियम के अनुसार, अगर आपके पास रिजर्वेशन नहीं है और आपको ट्रेन से कहीं जाना है तो आप सिर्फ प्लेटफॉर्म टिकट लेकर ट्रेन में चढ़ सकते हैं। आप बहुत ही आसानी से टिकट चेकर के पास जाकर टिकट बनवा सकते हैं। यह नियम रेलवे ने ही बनाया है। इसके लिए आपको प्लेटफॉर्म टिकट लेकर तुरंत TTE से संपर्क करना होगा। फिर TTE आपके गन्तव्य स्थल तक की टिकट बनाएगा।

ये भी पढ़ें- अफगानिस्तान में आया 6.1 तीव्रता का भूकंप, 1000 की मौत, 1500 गंंभीर रूप से घायल

सीट खाली नहीं होने पर भी है विकल्प

ट्रेन में सीट खाली नहीं होने पर TTE आपको रिजर्व सीट देने से मना कर सकता है । लेकिन, यात्रा करने से नहीं रोक सकता। अगर आपके पास रिजर्वेशन नहीं है ऐसी स्थिति में यात्री से 250 रुपए पेनाल्टी चार्ज के साथ आप यात्रा का कुल किराया देकर टिकट बनवा लें। रेलवे के ये जरूरी नियम जो आपको जरूर जानना चाहिए।

प्लेटफॉर्म टिकट की वैल्यू

प्लेटफॉर्म टिकट यात्री को ट्रेन में चढ़ने का पात्र बनाता है। इसके साथ यात्री को उसी स्टेशन से किराया चुकाना होगा, जहां से उसने प्लेटफॉर्म टिकट लिया है। किराया वसूलते वक्त डिपार्चर स्टेशन भी उसी स्टेशन को माना जाएगा। और सबसे बड़ी बात कि आपको किराया भी उसी श्रेणी का देना होगा जिसमें आप सफर कर रहे होंगे।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

अफगानिस्तान में आया 6.1 तीव्रता का भूकंप, 1000 की मौत, 1500 गंंभीर रूप से घायल

काबुल, सिटी न्यूज अलर्ट। तालिबान शासित देश अफगानिस्तान में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए, रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.1 आंकी गई है। भूकंप से कम से कम 1000 लोगों की जान गई है, जबकि 1500 से ज्यादा घायल हो गए। US जियोलॉजिकल सर्वे (USGS) के मुताबिक, भूकंप का केंद्र अफगानिस्तान के खोस्त शहर से 40 किलोमीटर दूर था।

बचाव कार्य शुरू किया गया है और मरने वालों का आंकड़ा और बढ़ सकता है। बीते साल ही दो दशक चले लंबे युद्ध से मुक्ति पाने वाले अफगानिस्तान पर यह दूसरा बड़ा संकट हो सकता है। अफगानिस्तान की सरकारी न्यूज एजेंसी बख्तार ने अपनी रिपोर्ट में 1000 मौतों की जानकारी दी है। एजेंसी का कहना है कि मौके पर हेलिकॉप्टर भेजे गए हैं और बचाव अभियान शुरू हो गया है।

दर्जनों मकान हुए तबाह

न्यूज एजेंसी के डायरेक्टर अब्दुल वाहिद रयान ने ट्विटर पर लिखा कि करीब 90 मकान पक्तिका में तबाह हो गए हैं। इन मकानों के मलबे में दर्जनों लोगों के दबे होने की आशंका है। सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे वीडियोज में देखा जा सकता है कि पाकिस्तान से सटे पक्तिका प्रांत से लोगों को हेलिकॉप्टर के जरिए निकाला जा रहा है। तालिबान सरकार के उप-प्रवक्ता बिलाल करीमी ने कहा, ‘भीषण भूकंप ने पक्तिका प्रांत के 4 जिलों को प्रभावित किया है। इस आपदा में देश के सैकड़ों लोगों की मौत होने और जख्मी होने की आशंका है। इस आपदा के चलते दर्जनों मकान तबाह हो गए हैं।’

इसे भी पढ़े- पैगंबर विवाद: दिल्ली, मुंबई, यूपी व गुजरात में आत्मघाती हमला करेंगे- अलकायदा

उन्होंने कहा कि हम सभी एजेंसियों से अपील करते हैं कि वे तत्काल अपनी टीमों को आपदा प्रभावित इलाकों में भेजें और पीड़ितों की मदद करें। पड़ोसी देश पाकिस्तान के मौसम विभाग का अनुमान है कि भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.1 थी। भूकंप के ये झटके पाकिस्तान की राजधानी इस्लमाबाद समेत कई शहरों में महसूस किए गए हैं। यूरोपीय एजेंसी EMSC का कहना है कि भूकंप के ये झटके 500 किलोमीटर के दायरे में महसूस किए गए हैं। इसमें भारत के भी कुछ हिस्से शामिल हो सकते हैं।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

पैगंबर विवाद: दिल्ली, मुंबई, यूपी व गुजरात में आत्मघाती हमला करेंगे- अलकायदा

पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ टिप्पणियों को लेकर अब आतंकी संगठन अलकायदा की भी एंट्री हो गई है। पैगंबर मोहम्मद पर की गई टिप्पणी को लेकर आतंकवादी संगठन अलकायदा ने भारत में आत्मघाती हमले की धमकी दी है। अलकायदा ने इसे इस्लाम का अपमान बताया है और देश के कई राज्यों में हमले की धमकी दी है।

6 जून को एक धमकी पत्र के जरिए आतंकवादी समूह अल-कायदा ने कहा है कि वह पैगंबर के सम्मान में लड़ने के लिए दिल्ली, मुंबई, उत्तर प्रदेश और गुजरात में आत्मघाती हमले शुरू करेगा। वहीं इस टिप्पणी को लेकर दुनिया के कई मुस्लिम देशों ने पहले ही भारत से नाराजगी जताई है। खाड़ी के कई देश भारतीय राजनयिकों को तलब भी कर चुके हैं।

इसे भी पढ़े-जल्‍द हो सकती है पंचायत सीजन 3 की घोषणा जाने सब कुछ

पैगंबर विवाद में अब तक क्या-क्या हुआ?

नुपूर शर्मा और नवीन कुमार जिंदल की पैगंबर के खिलाफ विवादित टिप्पणियों ने देश विरोधी तत्व सक्रिय हो गए हैं वहीं भारत के लिए कूटनीतिक मुश्किलें भी खड़ी हो गई है। अलकायदा ने देश के कई शहरों और शहरों में हमले की धमकी दी है। कुवैत ने पहले ही भारतीय उत्पादों को अपने स्टोर से हटा लिया है। कुवैत, ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, ओमान, इंडोनेशिया समेत 15 से ज्यादा देशों ने इस टिप्पणी को लेकर विरोध जताया है। उधर मुंब्रा पुलिस ने नुपूर शर्मा को समन भेजा है और उन्हें 22 जून को पेश होने के लिए कहा है।

किन-किन देशों ने दर्ज कराया विरोध?

दुनिया के कई देशों ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ टिप्पणी को लेकर विरोध दर्ज कराया है। इस लिस्ट में करीब 15 देश शामिल हैं। इनमें कतर, ईरान, इराक, कुवैत ने भारतीय राजनयिकों को पहले ही तलब कर इसकी कड़ी निंदा की। इस सूची में इंडोनेशिया, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मालदीव भी शामिल है। इसके अलावा बीजेपी नेताओं की टिप्पणियों की आलोचना करने वाले देशों में ओमान, जॉर्डन, बहरीन, अफगानिस्तान और पाकिस्तान भी है।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

जल्‍द हो सकती है पंचायत सीजन 3 की घोषणा जाने सब कुछ

TVF जल्द ही पंचायत सीजन 3 की घोषणा कर सकती है, क्योंकि शो के सीजन 2 को समीक्षकों से लेकर प्रशंसकों तक सभी ने सराहा है। शो के सीज़न 2 को 20 मई 2022 को अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलिज किया गया था। चूंकि इस सीरीज़ को IMDb पर 8.8/10 रेटिंग मिली है, इसलिए लगभग हर आलोचक ने शो को अच्छी समीक्षा दी है।

यह बेव सीरिज एक भारतीय गाँव और उसके लोगों के इर्द-गिर्द घूमती है, जिसका नाम बिहार राज्य में फुलेरा है, मुख्य लीड अभिषेक त्रिपाठी (जितेंद्र कुमार) जो पंचायत सचिव हैं, और ग्राम सेवक विकास (चंदन रॉय), बृज भूषण दुबे उर्फ प्रधान जी (रघुवीर यादव) हैं। ), फैसल मलिक (प्रह्लाद पांडे), मंजू देवी (नीना गुप्ता)। हालांकि शो में कई नए किरदारों को भी पेश किया गया है और उन्होंने पंचायत सीजन 2 में वास्तव में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है और उम्मीद है कि वे पंचायत सीजन 3 में वापसी करेंगे।

इसे भी पढ़े-ललिल मोदी का spot fixing पर बड़ा खुलासा, मुश्किल में पड़ सकते हैं रिषभ पंत!

पंचायत सीजन 3 में क्या हो सकता है?

जैसा कि शो का सीज़न 2 सभी पात्रों के लिए एक बड़े भावनात्मक टूटने के साथ समाप्त हो गया है क्योंकि प्रह्लाद के इकलौते बेटे की सीमा पर मृत्यु हो गई क्योंकि वह एक सैनिक था और उसका शहीद वास्तव में सभी के लिए आहत था, और अब विधायक (विधायक) अभिषेक के बाद हैं। उसने सोचा कि यह अभिषेक की योजना थी जिसके कारण उसकी सेना गाँव में प्रवेश नहीं कर सकती थी, और विधायक ने अपनी शक्तियों का उपयोग अभिषेक को फुलेरा गाँव से स्थानांतरित करने के लिए किया। इसलिए कयास लगाया जा रहा है कि पंचायत सीजन 3 अभिषेक के स्थानांतरण और अभिषेक और रिंकी के बीच के प्रेम कोण से निपटेगा, मैंने व्यक्तिगत रूप से सोचा था कि उनका प्यार सीजन 2 में ही परिपक्व होगा, इससे लगता है की यह पंचायत सीजन 3 की महत्वपूर्ण साजिश हो सकती है।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

ललिल मोदी का spot fixing पर बड़ा खुलासा, मुश्किल में पड़ सकते हैं रिषभ पंत!

जी, हां आईपीएल पर एक बार फिर से फिक्सिंग का भूत सवार हो गया है। सीबीआई ने आईपीएम के 2019 के दो मामले पर एफआईआर दर्ज की है। जिसके बाद दिल्ली में हुए IPL 2019 के मैचों पर संभावित स्पॉट फिक्सिंग (spot fixing) का शक होना फिर से शुरू हो गया है। IPL गवर्निंग काउंसिल के पूर्व आयुक्त ललित मोदी के पोस्ट किये गये वीडियो ने स्पॉट फिक्सिंग पर सोचने पर एक बार मजबूर कर दिया है।

फिर सामने आया spot fixing का मामला

IPL ललित मोदी के दिमाग की खोज हैं। IPL 2019 में केकेआर और डीसी के बीच खेले गये मुकाबले का एक वीडियो शेयर करते हुए ललित मोदी ने स्पॉट फिक्सिंग (spot fixing) का आरोप लगाया है। दरअसल इस वीडियो में डीसी के कप्तान ऋषभ पंत को कहते हुए सुना जा रहा था कि ये तो वैसे ही चौका है। उस मैच में संदीप लामिछने गेंदबाजी कर रहे थे और रॉबिन उथप्पा ने चौका जड़ भी दिया।

ललित मोदी ने लगाया आरोप

ललित मोदी के वीडियो को शेयर करने के बाद ही चारों तरफ खलबली मच गयी। इस वीडियो को पोस्ट करते हुए ललित मोदी ने लिखा- “क्या यह मजाक है? इस पर विश्वास नहीं कर सकता। मैच फिंक्सिंग (spot fixing) पूरे उफान पर है। IPL, BCCI और ICC क्या कभी ये जानेंगे? शर्मनाक या फिर मैच ऑफिशियल को इसकी परवाह ही नहीं।” IPL 2019 का फाइनल मुकाबला मुंबई इंडियंस और सीएसके के बीच हुआ था जिसमें मुंबई इंडियंस, सीएसके को 1 रन से मात देकर पांचवी बार IPL का खिताब अपने नाम करने में कामयाब हुई थी।

इसे भी पढे- शादी वाले घर में जयमाला के बाद हुआ कुछ ऐसा की दंग रह गए सब लोग

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

थाने में महिला से मसाज करा रहे थे दारोगा जी, वीडियों हो गया वायरल, देखें वीडियों

सरहसा, सिटी न्यूज अलर्ट। सोशल मीडिया पर एक विडियों तेजी से वायरल हो रहा है। इस विड‍ियों में दारोगा जी थाने में ही एक महिला से अपनी मसाज कराते हुए दिख रहे है। यह वीडियों बिहार के सहरसा जिले का बताया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि यह वीडियो 2 महीना पुराना है। वीडियो सामने आने के बाद SP लिपि सिंह ने तत्काल एक्शन लेते हुए थानेदार को सस्पेंड कर दिया है। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि थाने में महिला से मसाज कराते-कराते दारोगा किसी से फोन पर बात कर रहे है और महिला को मदद का भरोसा दिला रहा है।

उसी वक्त दूसरी महिला कुर्सी पर बैठी हुई है। वीडियों में मसाज करा रहे दारोगा का नाम शशिभूषण बताया जा रहा है। थानेदारन नवहटटा थाने में तैनात था। महिला से मसाज कराने का वीडियों वायरल होने के बाद थानेदार को सस्‍पेंड कर दिया गया है।

वीडियों देंखे

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

रेप केस का आरोपी है महिला का बेटा

जानकारी के अनुसार, मसाज करने वाली महिला थाने में अपने बेटे की जमानत के लिए आई थी। महिला के बेटे पर रेप का आरोप है। कथित रूप से दारोगा ने उससे कहा कि पहले मसाज करो। साथ ही उसे आश्वासन दिया कि तुम्हारे बेटे को जमानत जल्द मिल जाएगी। इस दौरान दारोगा किसी वकील से उसके बेटे की जमानत के लिए फोन पर बात करता रहा।

इस मामले पर सहरसा की पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने बताया, ‘तत्कालीन थानाध्यक्ष डरहार ओपी शशिभूषण सिन्हा का वायरल वीडियो हमारे सामने आया है। इसकी सत्यता की जांच करने के लिए एसडीपीओ सदर को भेजा गया। शशिभूषण सिन्हा वहां पर तैनात थे, उस इलाके में एक रेप केस हुआ था।

अब इस वीडियो में दुष्कर्म के आरोपी की मां के कहने पर एक वकील से 10 वह हजार रुपये में बेल लेने की बात कर रहा है। साथ में जिस तरीके से वो बैठे हुए है या जो उनका आचरण है, जो उनका बॉडी लैंग्वेज है या जो भी वो करवा रहे है, वो अनुशासनहीनता, उद्दंडता को परिभाषित करता है। साथ ही एक अच्छे पुलिस पदाधिकारी का जो आचरण होता है, उसके एकदम उसके एकदम विपरीत है।’

इसे भी पढे- शादी वाले घर में जयमाला के बाद हुआ कुछ ऐसा की दंग रह गए सब लोग

शादी वाले घर में जयमाला के बाद हुआ कुछ ऐसा की दंग रह गए सब लोग

मथुरा, सिटी न्‍यूज अलर्ट । उत्तर प्रदेश में अब फ‍िर से अपराधियों के हौसले बुलंद होते जा रहे है। ऐसा लग रहा है अपराधियों के दिल से योगी सरकार का खौफ खत्‍म हो गया है। मथुरा से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। दरअसल यहां शादी के दौरान के अज्ञात शख्स ने दुल्हन की मां की गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के खुलासे के बाद इलाके में हड़कंप मच गया।

इसे भी पढ़े़े- Urfi Javed ने बोल्डेन की हदें की पार, बाडी पर लगाया सिर्फ रंग बिरंंगे फूल

बता दें कि मृतक महिला के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। ये खौफनाक घटना मथुरा के नौझील के मुबारिकपुर गांव में हुई। पुलिस मामले की जांच कर रही है। शादी के दौरान घटना को किसने अंजाम दिया, इसका पता लगाया जा रहा है। शादी में जयमाला के बाद जब दुल्हन वापस अपने कमरे में पहुंची तो उसके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई। दुल्हन ने देखा कि उसकी मां को किसी ने गोली मार दी।

वारदात वाले दिन हुआ कुछ ऐसा

दुल्हन के पिता ने बताया कि जयमाला के बाद जब उनकी बेटी अपने कमरे में गई तो उसने देखा कि उसकी मां की मौत हो चुकी थी। किसी ने उसको गोली मार दी थी।

इस मामले पर मथुरा (ग्रामीण) एसपी शिरीष चंद्र ने कहा कि हम मामले की जांच कर रहे हैं। जो भी इस मामले में दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। आसपास के लोगों से पूछताछ की जा रही है।

गौरतलब है कि दुल्हन की मां की हत्या होने के बाद उनके परिजन सदमे में हैं। जिस घर में बेटी की शादी की शहनाई गूंज रही थी, वहां आज मातम छाया हुआ है। परिजनों ने पुलिस से जल्द से जल्द दोषी को गिरफ्तार करने की मांग की है।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

हमारे यू-टयूब चैलन को सबसक्राइब करने के लिए क्लिक करें

Urfi Javed ने बोल्डेन की हदें की पार, बाडी पर लगाया सिर्फ रंग बिरंंगे फूल

Urfi Javed हमेशा सोशल मीडिया मेंं छायी रहती है वह है उनका फैशन इस बार उर्फी ने जो किया है उसे देखकर हर किसी की आंखें फट गई है। उर्फी जावेद (Urfi Javed) के इस बेबाक अंदाज को देखने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स हैरान हो रहे हैं। इस दौरान उर्फी के शरीर पर कपड़ों की जगह सिर्फ और सिर्फ फूल ही चिपके दिखाई दे रहे हैं।

नहीं पहने कपड़े

सामने आए वीडियो में आप देख सकते हैं कि एक्ट्रेस ने स्किन टोन से मैच करते हुए न्यूड कलर के ही शॉर्ट्स पहने हैं जो कि गौर करने पर दिखाई दे रहे हैं। इसके अलावा उर्फी (Urfi Javed) ने शरीर पर कोई कपड़ा नहीं पहना है।

रंगीन फूलों को छिपकाया

उर्फी (Urfi Javed) ने अपने इस लुक को रंगीन फूलों के साथ पूरा किया है। इसके साथ ही एक्ट्रेस ने बालों की लंबी लट निकालकर पीछे पोनी बनाई है। वीडियो में उर्फी कोई बॉडी मूवमेंट तो करती नहीं दिखाई दे रही हैं लेकिन वो अपने फेस एक्सप्रेशन फ्लॉन्ट कर रही हैं।

इसे भी पढे:गेहूं (Wheat) के रेट में आ सकता है उछाल 3000 रूपये प्रति क्विंटल हो सकता है-

फैशन के मामले में ट्रेंडसेटर

कमेंट सेक्शन पर नजर डाले को उर्फी (Urfi Javed) के इस अंदाज को देखकर जहां कुछ यूजर्स उन्हें फैशन के मामले में ट्रेंडसेटर कह रहे हैं तो कुछ अपना फेवरेट फूल बता रहे हैं। इसके साथ ही कुछ यूजर्स उनके इस हद से ज्यादा बोल्ड अंदाज को पसंद नहीं कर रहे हैं और उन्हें ऐसे ना करने की हिदायतें भी दे रहे हैं।

खोले शर्ट के बटन

इससे पहले उर्फी (Urfi Javed) ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया था। इस वीडियो में उर्फी कैमरे के सामने सिर्फ सफेद कलर की शर्ट पहने नजर आईं। खास बात है कि उर्फी (Urfi Javed) ने इस सफेद कलर की शर्ट के आगे से बटन खोल रखे थे। जिसमें उनका क्लीवेज साफ नजर आया।

उर्फी ने अपने लुक को स्टाइलिश बनाने के लिए गले में हैवी चोकर स्टाइल नेकलेस पहना। इसके साथ ही बालों का बन बनाया था। इस वीडियो को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा था- ‘नो पेन और नो गेन।’ उर्फी के इस वीडियो पर राखी सावंत ने कमेंट करते हुए फायर वाला इमोजी बनाया।

फैशन स्टेटमेंट के चर्चे

उर्फी जावेद (Urfi Javed) ने बहुत कम समय में ही फैशन इंडस्ट्री में एक बड़ा मुकाम हासिल कर लिया हैं। फोटोशूट हो या फिर स्पॉटेड लुक्स, उर्फी हर बार अपने फैंस के लिए कुछ ना कुछ अतरंगी जरूर करती हैं और इसी वजह से टॉक ऑफ द टाउन बन जाती हैं।

गेहूं (Wheat) के रेट में आ सकता है उछाल 3000 रूपये प्रति क्विंटल हो सकता है

जी, हां आप ने सही पढ़ा आने वालो दिनों में गेहूं (Wheat) के रेट में उछाल देखने को मिल सकती है। जानकारों की मानें तो शाॅर्ट से लांग टर्म में गेहूं का भाव 3,000 रुपए प्रति क्विंटल के स्तर तक पहुंच सकता है। वहीं सीबीओटी पर भी गेहूं की कीमतों में जोरदार तेजी की संभावना जताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार अप्रैल के महीने में गेहूं (Wheat) की कटाई जोरों पर है और यही वजह है कि कीमतों में कुछ गिरावट आ सकती है। हालांकि उनका मानना है कि कीमतों में आई गिरावट सीमित रहेगी और भाव के 2,015-2,020 रुपए प्रति क्विंटल के नीचे जाने की गुंजाइश कम है।

ग्लोबल लेवल पर गेहूं की सप्लाई कमजोर

उनका कहना है कि गेहूं (Wheat) में 2,270 रुपए का मजबूत रेसिस्टेंस है और उसके ऊपर भाव टिकने पर शाॅर्ट से लांग टर्म में 2,600 रुपए से 3,000 रुपए का ऊपरी स्तर दिखाई पड़ सकता है। इसके अलावा ग्लोबल लेवल पर सप्लाई प्रभावित होने और अंतिम स्टॉक कमजोर रहने से शाॅर्ट टर्म में गेहूं की कीमतों में तेजी का रुझान बना रहेगा। इंद्रजीत कहते हैं कि शाॅर्ट टर्म में सीबीओटी पर गेहूं में 9.5 डॉलर से 12 डॉलर प्रति बुशेल के दायरे में कारोबार होने की संभावना है।

इसे भी पढ़े-राजनीति से आहत होकर लिया था रि‍यरमेंट, भाजपा से डरता नही: बाबुल सुप्रियो

गेहूं की कटाई बढ़ने से फिलहाल कीमतों में करेक्शन

बता दें कि मार्च के पूरे महीने के दौरान गेहूं का भाव 2,250 रुपए से 2,420 रुपए के दायरे में कारोबार करते हुए देखा गया था। दरअसल, रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध छिड़ने की वजह से दुनियाभर में गेहूं की सप्लाई प्रभावित हो गई थी। ग्लोबल लेवल पर सप्लाई प्रभावित होने से मार्च के पहले पखवाड़े में भारत से गेहूं एक्सपोर्ट आउटलुक के चलते कीमतों में अच्छी तेजी दर्ज की गई थी। हालांकि मार्च के आखिर से और अभी तक कटाई बढ़ने के साथ ही सरकार के द्वारा पीएमजीकेएवाई योजना की समयावधि को अगले 6 महीने के लिए बढ़ाने और ताजा आवक की वजह से शॉर्ट टर्म में कीमतों में करेक्शन दर्ज किया गया है।

44.4 मिलियन मीट्रिक टन सरकारी खरीद का लक्ष्य

इंद्रजीत पॉल के अनुसार 2022-23 के लिए गेहूं की सरकारी खरीद का लक्ष्य 44.4 मिलियन मीट्रिक टन रखा गया है जो कि सालाना आधार पर 2.4 फीसदी अधिक है। अगर यह लक्ष्य पूरा हो जाता है तो इतिहास में रिकॉर्ड खरीद के रूप में दर्ज हो जाएगी। हालांकि निर्यात मांग बढ़ने की वजह से गेहूं का भाव एमएसपी के ऊपर कारोबार कर रहा है ऐसे में हमें उम्मीद है कि सरकारी खरीद लक्ष्य के 85 फीसदी तक पहुंच जाएगी। बता दें कि गेहूं की सरकारी खरीद 1 अप्रैल 2022 से शुरू हो चुकी है।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

राजनीति से आहत होकर लिया था रि‍यरमेंट, भाजपा से डरता नही: बाबुल सुप्रियो

कोलकाता, सीएनए। जी, हां आप ने सही पढ़ा टीएमसी नेता बाबुल सुप्रियो ने कहा कि मैंने राजनीति से आहत होकर रिटायरमेंट का फैसला लिया था। मुझे लगा था कि प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री को ज्ञान की कोई परवाह नहीं है। दरअसल, बाबुल सुप्रियो टीएमसी की टिकट पर बालीगंज विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव लड़ रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: Yogi cabinet की लिस्‍ट फाइनल, ये विधायक बन सकते है मंत्री, देखेे लिस्‍ट

मुझे कोई डर होता तो मै पार्टी क्‍यों छोड़ता

उन्होंने कहा कि अगर मुझे कोई डर होता तो मैं पार्टी क्यों छोड़ता। एक व्यक्ति जो एक पार्टी से दूसरी पार्टी में जाता है और अक्सर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री के साथ अपने संबंध का दिखावा करता है लेकिन वह लोग मेरे पीछे केंद्रीय एजेंसियों को लगाने की कोशिश कर रहे हैं। हम इसका सामना करेंगे।

पूर्व केंद्रीय मंत्री व आसनसोल से दो बार सांसद चुने गए बाबुल सुप्रियो ने पिछले साल भाजपा छोड़कर टीएमसी का दामन थामा था। इसके बाद उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था, जिसके चलते इस सीट पर उपचुनाव की जरूरत पड़ी। उपचुनाव के लिए 12 अप्रैल को मतदान होगा। जबकि 16 अप्रैल को उपचुनाव के परिणाम सामने आएंगे।

बालीगंज में त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना

बालीगंज उपचुनाव में बाबुल सुप्रियो को विपक्षी भाजपा और माकपा से कड़ी टक्कर मिल सकती है। हालांकि, इस सीट को साल 2006 से टीएमसी का गढ़ माना जाता है। 1950 के दशक से इस सीट पर चुनावी मुकाबला माकपा और कांग्रेस के बीच हुआ करता था।

झुग्गी बस्तियों और कुछ मध्यम वर्ग के लोग जहां वाम दलों का समर्थन करते थे, जबकि बाकी के मध्यम वर्ग और अमीर दूसरी ओर रहते थे। हालांकि, टीएमसी के उदय के बाद गरीब और अमीर दोनों के वोट ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी को मिलने लगे। लेकिन इस बार टीएमसी, भाजपा और माकपा के बीच कांटे की टक्कर हो सकती है।

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

you're currently offline