Tuesday, February 27, 2024
Homeदेश-विदेशremdesivir असली है या नकली ऐसे करें पहचान

remdesivir असली है या नकली ऐसे करें पहचान

नई दिल्‍ली, सीएनए। काेरोना से गंभीर मरीजों के ईलाज के लिए डॉक्टर्स रेमेडिसविर (remdesivir) इंजेक्शन की मांग कर रहे हैं। पर इस बीच इसकी कालाबाजारी की खबरें भी आ रही हैं।

कुछ लोग नकली रेमेडिसविर (remdesivir) बेच रहे हैं, ये भी पता चला। ऐसे में ये जानना बेहद जरूरी हो जाता है कि आखिर कैसे इस इंजेक्शन के असली या नकली होने की पहचान की जाए।

अगर आपके मन में भी इसी तरह का सवाल है तो ये खबर आपके बेहद काम की है। दरअसल, अब आप असली और नकली दवा की बेहद आसानी से पहचान कर सकते हैं।

ऐसे करे असली-नकली की पहचान

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की डीसीपी और IPS अफसर मोनिका भारद्वाज ने इससे संबंधित ट्वीट किया है। ये काफी वायरल भी हो रहा है।

इसे भी पढ़े-Patanjali में 83 लोगों को कोरोना, बाबा रामदेव बोले-सब झूठ है

उन्होंने ट्वीट में इस बात की जानकारी दी है कि असली व नकली दवा में क्या फर्क दिखता है। उन्होंने रेमेडिसविर (remdesivir) के पैकेट के ऊपर कुछ गलतियों के बारे में बताया है, जिन पर गौर करके ही आप असली और नकली रेमेडिसविर के बीच फर्क को जान सकते हैं।

कुछ खास बातें जिन पर ध्यान देना है, वे हैं-

  1. नकली रेमेडिसविर (remdesivir) इंजेक्शन के नाम से ठीक पहले ‘Rx’ नहीं है।
  2. असली इंजेक्शन के पैकेट पर ‘100 mg/Vial’ लिखा है, जबकि नकली पैकेट पर ‘100 mg/vial’ लिखा है। यानी स्पेलिंग नहीं कैपिटल लेटर का फर्क है, गौर करें।
  3. नकली पैकेट पर ‘for use in’ है तो असली पैकेट पर ‘For use in’ लिखा है। यहां भी लेटर का झोल है।
  4. असली रेमेडिसविर इंजेक्शन के पैकेट के पीछे वॉर्निंग लाल रंग में है, जबकि नकली पैकेट में काले रंग में।
पुलिस ने रेमेडिसविर इंजेक्शन की कालाबाजारी पर डाक्‍टर को किया था अरेस्‍ट 

बताते चले कि पुलिस ने एक नामी डाक्‍टर को उसके 2 सहयोगियों को भी स्वाट और घंटाघर कोतवाली पुलिस की टीम ने पकड़ा है। तीनों के पास से 70 रेमडेसिविर इंजेक्शन और 36 लाख रुपये से ज्यादा कैश मिला। करीब 48 हजार रुपये कीमत का एक और इंजेक्शन भी इनके पास से मिला है।

कई अधिकारियों से लोग रेमडेसिवर की गुहार लगाते थे। अफसर इंतजाम नहीं कर पाते, लेकिन ब्लैक में उन तक इंजेक्शन पहुंच जाता था। इसी क्लू पर पुलिस ने पड़ताल शुरू की और गैंग तक पहुंच गई। आरोपित डॉक्टर दिल्ली एम्स में भी अपनी सेवाएं देता है। वह एक नामी फार्मा कंपनी में सीईओ भी है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments