Wednesday, September 27, 2023
Homeव‍िदेशचलो, चलो कारगिल चलो...पाकिस्तान से नहीं संभल रहा गिलगित-बाल्टिस्तान!

चलो, चलो कारगिल चलो…पाकिस्तान से नहीं संभल रहा गिलगित-बाल्टिस्तान!

पाकिस्तान के कब्जे वाले गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है और लोग ‘चलो कारगिल चलो’ के नारे लगा रहे हैं और भारत में विलय की धमकी दे रहे हैं। पाकिस्तानी अधिकारियों के ख़िलाफ़ ये प्रदर्शन ईशनिंदा के आरोप में एक जाने-माने शिया मौलवी की गिरफ़्तारी के बाद हुए हैं।

यह पाकिस्तान के लिए उथल-पुथल भरा समय है। भारत का पड़ोसी देश हर तरह की परेशानी से जूझ रहा है। इसकी राजनीति मंदी में है और इसकी अर्थव्यवस्था मंदी में है। जैसे-जैसे देश अपनी समस्याओं से निपटने की कोशिश कर रहा है, वैसे-वैसे देश को गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन का भी सामना करना पड़ रहा है और लोगों से कारगिल के बदले देश छोड़ने का आह्वान किया जा रहा है।

गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में विरोध प्रदर्शन

सोशल मीडिया पर, जिसे अब एक्स नाम दिया गया है, पाकिस्तान के कब्जे वाले गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में लोगों के बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन और राष्ट्र के खिलाफ नारे लगाने के वीडियो सामने आ रहे हैं। सोशल मीडिया पर मौजूद एक वीडियो में (उनमें से किसी की भी पुष्टि नहीं की गई है) स्कर्दू क्षेत्र के लोगों ने बड़ी संख्या में एकत्र होकर पाकिस्तानी अधिकारियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और देश के खिलाफ नारे लगाए।

विरोध प्रदर्शन के नेताओं में से एक को यह धमकी देते हुए सुना जा सकता है कि वे ‘दरवाजे तोड़ देंगे और कारगिल चले जाएंगे। 25 अगस्त को पोस्ट किया गया एक पुराना वीडियो, गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में इसी तरह के प्रदर्शन को दर्शाता है, जिसमें क्षेत्र के एक सामाजिक कार्यकर्ता वज़ीर हसनैन कह रहे हैं हम आपके सिंध नहीं जाएंगे, हम आपके पंजाब नहीं जाएंगे। हम आपके देश में नहीं रहना चाहते, कारगिल का रास्ता खोल दीजिए, हम कारगिल जाएंगे। पोस्ट किए गए वीडियो में स्थानीय लोगों को “चलो, चलो कारगिल चलो” का नारा लगाते हुए भी सुना जा सकता है।

शिया धर्मगुरु के खिलाफ प्राथमिकी

क्षेत्र में एक सप्ताह से अधिक समय से चल रहा विरोध प्रदर्शन क्षेत्र के प्रतिष्ठित शिया धर्मगुरु आगा बाकिर अल-हुसैनी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के कारण है। अधिकारियों ने स्कर्दू में उलेमा परिषद की बैठक में की गई टिप्पणी के लिए उनके खिलाफ ईशनिंदा का मामला दर्ज किया। यह बैठक पाकिस्तान के सख्त ईशनिंदा कानूनों पर चर्चा के लिए आयोजित की गई थी, जिसके बारे में कई लोगों का मानना ​​है कि यह शिया समुदाय को निशाना बनाने के लिए है।

गिलगित-बाल्टिस्तान 

गिलगित-बाल्टिस्तान एक शिया-बहुल क्षेत्र है, जो पाकिस्तान के सबसे उत्तरी क्षेत्र में स्थित है। यह चीन को भी एक मार्ग प्रदान करता है जो झिंजियांग स्वायत्त क्षेत्र को पूरा करता है। गिलगित-बाल्टिस्तान के पश्चिम में अफगानिस्तान है, इसके दक्षिण में पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर है और पूर्व में जम्मू और कश्मीर है। भारत गिलगित-बाल्टिस्तान को अपना क्षेत्र मानता है, जो जम्मू-कश्मीर की पूर्व रियासत का हिस्सा है, जो आजादी के बाद पूर्ण रूप से भारत में शामिल हो गया था, जो अवैध पाकिस्तानी कब्जे में है।

इसे भी पढ़े-होलाष्टक 10 मार्च से, जानें क्यों नहीं किए जाते Holashtak में शुभ कार्य

हमारे फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करें

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

you're currently offline